Loading...
 

चुनाव के पहले कांग्रेस का मनोबल बढ़ रहा है

भाजपा ने सत्ता बरकरार रखने के लिए एक कठिन लड़ाई लड़ रही है
Author: हरिहर स्वरूप - Published 18-02-2019 12:33 GMT-0000
2019 के आम चुनाव के बाद भारत को जो चाहिए वह है स्थिरता। यदि पूरा विपक्ष एक मंच पर आकर सरकार बना भी ले, तो क्या वे स्थिर सरकार दे पाएंगे, इस बात को लेकर कोई दावे के साथ कुछ भी नहीं कह सकता। गठबंधन के युग में हमारा अनुभव खुशनुमा नहीं रहा है। देश की नजरें अब प्रियंका और राहुल गांधी के नेतृत्व वाली कांग्रेस पर टिकी हैं।

राहुल ने मध्यप्रदेश में 5 पार्टी पैनल गठित किए

भाजपा ने ग्यारह जिला समितियों का पुनर्गठन किया
Author: एल एस हरदेनिया - Published 16-02-2019 17:51 GMT-0000
भोपालः कांग्रेस और भाजपा दोनों ने आगामी लोकसभा चुनावों के लिए अपने अपने संगठनों को दुरूस्त करना शुरू कर दिया है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह ने जिला समितियों के 11 अध्यक्षों को हटा दिया है। जिन लोगों को हटाया गया है उनमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के करीबी लोग शामिल हैं। राकेश सिंह के इस कदम पर कुछ पार्टी के लोगों ने टिप्पणी करते हुए कहा कि भोपाल और ग्वालियर इकाइयाँ क्रमशः चौहान और तोमर के चंगुल में थीं और दोनों निष्क्रिय थीं।

लोगों की जानें कब तक पीती रहेगी शराब?

उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश की जहरीली मौत
Author: अनिल जैन - Published 15-02-2019 14:00 GMT-0000
शराब की बिक्री राज्य सरकारों के लिए कमाई का एक बडा माध्यम होती है, लेकिन अवैध शराब का कारोबार करने वालों से शासन-प्रशासन और पुलिस के लोग जो उगाही करते हैं, वह भी मामूली नहीं होती। इसलिए कोई भी पार्टी सत्ता में रहे, शराब माफिया पर इसका कोई असर नहीं होता। यही वजह है कि अवैध शराब का कारोबार हमेशा धडल्ले से चलता रहता है और इसीलिए देश के किसी न किसी कोने से आए दिन जहरीली शराब से लोगों के मरने की खबरें आती रहती हैं।

मुलायम का मोदी प्रेम

इसके पीेछे अखिलेश से पुत्रमोह तो नहीं?
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 14-02-2019 12:09 GMT-0000
वर्तमान लोकसभा के सत्र के अंतिम दिन समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने एक बार फिर देश को चौंका दिया है। इस तरह के झटके देने की उनकी पुरानी परंपरा रही है। एक झटका उन्होंने 2008 में उस समय दिया था, जब उन्होंने अमेरिका के साथ भारत के परमाणु मसले पर अपने वामपंथी दोस्तों को धोखा देते हुए मनमोहन सरकार का साथ दे दिया था। उसके कारण मनमोहन की सरकार बच गई थी और वामपंथियों की इतनी फजीहत हुई थी कि 2009 के लोकसभा चुनाव में उनकी बुरी हार दर्ज हो गई।

प्रियंका के लखनऊ रोड शो से सपा-बसपा परेशान

माया-अखिलेश आगे की रणनीति को दे सकते हैं नया रूप
Author: प्रदीप कपूर - Published 13-02-2019 14:16 GMT-0000
लखनऊः लखनऊ में प्रियंका गांधी वाड्रा, राहुल गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभावशाली रोड शो ने सपा-बसपा गठबंधन को परेशान कर दिया है। रोड शो में सभी जातियों और धर्मों के लोगों की भारी भागीदारी ने समाजवादी पार्टी और बसपा को 2019 के लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए अपनी रणनीति को संशोधित करने के लिए मजबूर किया है।

राहुल की यात्रा ने मध्य प्रदेश कांग्रेस में उत्साह भरा

सिंधिया ने सभी 29 सीटों पर जीत दिलाने का वादा किया
Author: एल एस हरदेनिया - Published 12-02-2019 08:50 GMT-0000
भोपालः पिछले दिनों शुक्रवार को भोपाल में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की रैली हुइ। राहुल गांधी ने मुख्यमंत्री और मंत्रियों को कड़ी चेतावनी देते हुए कहा कि वे बेहतर प्रदर्शन करें, अन्यथा उन्हें हटा दिया जाएगा। कमलनाथ और सिंधिया ने घोषणा की कि राहुल गांधी देश के अगले प्रधानमंत्री हैं, और दिग्गज भाजपा नेता राम कृष्ण कुसुमारिया ने कांग्रेस को गले लगा लिया। शुक्रवार को भोपाल में आयोजित पार्टी की रैली के कुछ मुख्य आकर्षण थे।

एक बार फिर गुर्जर आंदोलन

कर्पूरी फाॅर्मूले में है इसका समाधान
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 11-02-2019 10:08 GMT-0000
राजस्थान के गुर्जर एक बार फिर सड़कों पर हैं। पिछले 15 साल से वे आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे हैं। उनके आंदोलन में करोड़ों की संपत्ति का नुकसान हुआ है और दर्जनो लोग अब तक मारे भी गए हैं। लेकिन उनकी समस्या का कोई समाधान आजतक निकाला नहीं गया है। गुर्जरों के अलावा जाट, पाटीदार, मराठा और कापू समुदाय के लोग भी आरक्षण की मांग करते हुए आंदोलन किया करते थे। आर्थिक आधार पर अनारक्षित तबकों के लिए आर्थिक आधार पर आरक्षण देकर उन्हें संतुष्ट कर दिया गया है और अब उनकी ओर से आरक्षण को लेकर किसी आंदोलन की संभावना बहुत कम हो गई है, लेकिन गुर्जरों की समस्या का समाधान अभी तक नहीं निकल पाया है।

भ्रष्टाचार पर सख्त तेवर

क्या नरेन्द्र मोदी वोट बटोर सकेंगे?
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 09-02-2019 09:59 GMT-0000
नरेन्द्र मोदी की सरकार भ्रष्टाचार के मसले पर बनी थी। 2011 और उसके बाद देश में भ्रष्टाचार के खिलाफ जबर्दस्त आंदेालन चला था। उस आंदोलन ने देश के पूरे राजनैतिक वर्ग को सवाल के कटघरे में खड़ा कर दिया था और उसका मुख्य नारा था, "सारे नेता चोर हैं"। राजनैतिक वर्ग पर अविश्वसनीयता के उस माहौल में एक ऐसा शून्य भर दिया था, जिसके कारण सभी पार्टियों के प्रति लोगों का संदेह चरम पर पहुंच गया था।

लखनऊ में प्रियंका के लिए कांग्रेस करेगी ग्रैंड शो

मायावती कांग्रेस पर गरम, पर अखिलेश नरम
Author: प्रदीप कपूर - Published 08-02-2019 10:23 GMT-0000
लखनऊः उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी रोड शो के जरिए शक्ति प्रदर्शन का आयोजन करने के लिए पूरी तरह तैयार है और जब प्रियंका गांधी वाड्रा 10-11 फरवरी को लखनऊ आएंगीए तो उसी रोज इस ग्रैंड शो को अंजाम दिया जाएगा। 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए ईस्ट यूपी की कमान संभालने के लिए कांग्रेस उनके लखनऊ आगमन पर प्रियंका गांधी वाड्रा के भव्य स्वागत का आयोजन करने की तैयारी कर रही है।

शीतलहर का वैश्विक सितम

ग्लोबल वार्मिंग की आहट है यह
Author: अनिल जैन - Published 07-02-2019 09:53 GMT-0000
आधी से ज्यादा दुनिया इन दिनों भीषण सर्दी की चपेट में है। यह सर्दी का पलटवार है जो अपने पूरे शीत प्रभाव के साथ लोगों को हैरान-परेशान कर रहा है। न सिर्फ यूरोप और अमेरिका बल्कि भारत समेत समूचा उत्तरी गोलार्ध कडाके की सर्दी से ठिठुर रहा है और जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। मौसम वैज्ञानिक इस असाधारण सर्दी के लिए पोलर वॉर्टेक्स (ध्रुवीय तूफान) को जिम्मेदार मान रहे हैं। आर्कटिक क्षेत्र में ध्रुवीय तूफान से हवाओं में उतार-चढाव के कारण ही बीते दिसंबर से लेकर अब तक दुनिया का उत्तरी हिस्सा ठंड से कंपकपा रहा है। वैज्ञानिक इस वैश्विक शीतलहर को ग्लोबल वार्मिंग के आसन्न खतरे की चेतावनी के तौर पर देख रहे हैं।