Loading...
 
ज्ञान पाठक के अभिलेखागार से

नाभिकीय मुद्दे में नया मोड़

Author: System Administrator - Published 20-10-2007 05:00 GMT-0000
भारत-अमेरिकी नाभिकीय समझौते के मुद्दे में एक नया मोड़ आ गया है। प्रधान मंत्री मनमोहन सिंह द्वारा जुलाई 2005 को जो समझौता किया गया था उसका विरोध थम गया है और लगभग सभी राजनीतिक पार्टियां उसी पर राजी हो गयी हैं। अब इस समझौते और इसकी शर्तों का विरोध नहीं हो रहा बल्कि अमेरिका द्वारा भविष्य में भारत की बांहें मरोड़ने की संभावनाओं का विरोध हो रहा है।
ज्ञान पाठक के अभिलेखागार से

उत्तर प्रदेश में राजनीतिक ...

Author: System Administrator - Published 20-10-2007 04:57 GMT-0000
उत्तर प्रदेश में राजनीतिक पैंतरेबाजी दर्शनीय है, हालांकि अभी यह ठीक-ठीक मालूम नहीं कि विधान सभा के चुनाव कब होंगे। स्वयं समाजवादी पार्टी नेता और राज्य के मुख्य मंत्री मुलायम सिंह यादव ने चुनाव आयोग से मांग की थी कि चुनाव फरवरी-मार्च में करा लिए जायें।

ज्ञान पाठक के अभिलेखागार से

उम्मीदें जगाकर सपने ...

Author: System Administrator - Published 20-10-2007 04:54 GMT-0000
मादक पदार्थों और हथियारों के बाद आदमियों का अवैध व्यापार तीसरा सर्वाधिक लाभ का (अवैध) पेशा है जिसका विश्व बाजार सात से 12 अरब डालर के बीच का है। आदमियों के अवैध व्यापार में औरतों और लड़कियों की संख्या लगभग 80 प्रतिशत होती है।
ज्ञान पाठक के अभिलेखागार से

औरतों की सुरक्षा की राजनीति

Author: System Administrator - Published 20-10-2007 04:30 GMT-0000
घरेलू हिंसा से औरतों की सुरक्षा के लिए भारत में अंततः गत 16 अक्तूबर से एक कानून लागू हो गया है। इसे महिलाओं के मामलों में भारत में चलने वाली राजनीति मेहरबानी ही कहिए, वरना घरेलू हिंसा से महिलाओं की सुरक्षा विधेयक 2005 इतनी जल्दी न तो संसद में पारित हो पाता और न ही इतनी जल्दी उसे अधिसूचित कर उसे लागू करने से संबद्ध नियम ही बनाये जाते।
ज्ञान पाठक के अभिलेखागार से

कौन होगा उत्तर प्रदेश का मुख्य

Author: System Administrator - Published 20-10-2007 04:25 GMT-0000
उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष के प्रारंभ में होने वाले राज्य विधान सभा के चुनाव में बहुमत किसे मिलेगा – सपा को या बसपा को ? राज्य में अगला मुख्यमंत्री कौन होंगे – मुलायम सिंह या मायावती ? उत्तर प्रदेश की राजनीति से जुड़े और भी अनेक सवाल हैं जो आज राजनीतिज्ञों और राजनीति में रुचि रखने वालों में ही नहीं बल्कि आम लोगों में भी चर्चा के केन्द्र में हैं।