Loading...
 

पांच करोड़ रोजगार पैदा करने का था वादा

पर यहां तो रोजगार वाले भी हो गए बेरोजगार
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 10:59

आगामी एक फरवरी को केन्द्रीय बजट पेश कर वित्तमंत्री दो नया इतिहास बनाएंगे। पहला इतिहास को यह होगा कि आजादी के बाद पहली बार भारत सरकार अपने रेल बजट को अपने आमबजट के साथ ही पेश करेगी। दूसरा इतिहास पहली बार एक फरवरी को बजट पेश किया जाना होगा। गौरतलब है कि अब तब बजट को फरवरी के अंतिम दिन पेश किए जाने की परंपरा रही है।

ओबामा काल में भारत अमेरिकी संबंध के स्वर्णिम साल

क्या ट्रंप सिलसिले को तोड़ देंगे?
Author: कल्याणी शंकर - Published 2017-01-18 11:14

पिछले मंगलवार को ओबामा ने अपने 8 साल के कार्यकाल को पूरा करने के बाद एक भाव विह्वल भाषण दिया। 8 साल पहले जब वे राष्ट्रपति के पद पर बैठे थे, तो उनके अपने देश और भारत समेत दुनिया के अन्य देशों की उनसे अनेक अपेक्षाएं थीं। अब जब वे अपना कार्यकाल पूरा कर चुके हैं तो यह देखना दिलचस्प होगा कि भारत की अपेक्षाओं पर उनका कार्यकाल कितना खरा उतरा।

अखिलेश को मिली साइकिल, मुलायम के पास सीमित विकल्प

Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 2017-01-17 12:27

अखिलेश यादव को समाजवादी पार्टी का अध्यक्ष मानते हुए भारत के निर्वाचन आयोग का दिया गया फैसला अभूतपूर्व है, लेकिन अप्रत्याशित नहीं। यह अभूतपूर्व है, क्योंकि पहले जब भी किसी पार्टी में विभाजन हुआ है, आयोग का अंतिम फैसला इतना जल्दी कभी नहीं आया है। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस का दो बार विभाजन हुआ। दोनों बार विभाजित गुटों को नये चुनाव चिन्ह अंतरिम व्यवस्था के तहत दिए गए। कांग्रेस का चुनाव चिन्ह बैलों की जोड़ी और एक पीछे कंधे पर हल उठाया हुआ किसान हुआ करता था। जब 1969 में उसमें विभाजन हुआ, तो एक गुट को चरखा चुनाव चिन्ह मिला तो दूसरे गुट, जिसकी नेता इन्दिरा गांधी थी, को गाय और बछड़ा। बाद में निर्वाचन आयोग ने इन्दिरा गांधी वाली कांग्रेस को ही कांग्रेस माना, लेकिन उन्होंने अपना नया सिंबल गाय और बछड़ा बरकरार रखना ही उचित समझा।

उत्तर प्रदेश में मुख्य मुकाबला अखिलेश और मोदी के बीच

सपा के विभाजन ने भाजपा को अपनी रणनीति बदलने को बाध्य किया
Author: हरिहर स्वरूप - Published 2017-01-16 12:02

उत्तर प्रदेश की पिछले दिनों की घटनाओं ने भारतीय जनता पार्टी को अब मुख्य धुरी के रूप में खड़ा कर दिया है। भारतीय जनता पार्टी के लिए यह एक ऐसा चुनाव है, जिसे वह किसी भी कीमत पर हारना नहीं चाहेगी। उसकी हार का मतलब होगा कि लोगों ने नोटबंदी को नकार दिया है। यदि ऐसा हुआ तो आने वाले सभी चुनावों में भाजपा की जीत कठिन हो जाएगी, क्योंकि उत्तर प्रदेश द्वारा नोटबंदी को नकारने का मतलब है देश द्वारा इसे नकार दिया जाना और आने वाले चुनावों में भी नोटबंदी भाजपा की जीत को दुष्कर बना सकती है।

बीएसएफ जवान का विडियो

शिकायत सुनने की आंतरिक व्यवस्था होनी चाहिए
Author: देवसागर सिंह - Published 2017-01-15 05:19

सीमा सुरक्षा बल के जवान तेज बहादुर यादव की शिकायत कि सीमा पर जवानों को ढंग का खाना नहीं खिलाया जा रहा है, को हल्केपन से नहीं लिया जाना चाहिए। गृहमंत्रालय द्वारा कराई गई विभागीय जांच काफी नहीं है। इसका कारण यह है कि शिकायत में यह भी कहा गया है कि जवानों के लिए उपलब्ध राशन को काले बाजार में अवैध रूप से बेचा भी जा रहा है।

पंजाब चुनाव में केजरीवाल

क्या वे वहां का मुख्यमंत्री बन सकते हैं?
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 2017-01-13 11:47

दिल्ली के मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने यह कहकर सनसनी फैला दी कि पंजाब के लोग यह मानकर मतदान कर सकते हैं कि यदि उनकी आम आदमी पार्टी की सरकार बनती है, तो मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल होंगे। उन्होंने यह बात ’अगर मगर’ के लहजे में की थी, लेकिन उसके बाद राजनैतिक तूफान खड़ा होने लगा और अकाली दल के नेता ही नहीं बल्कि दिल्ली की राजनीति करने वाले भाजपा नेता भी इस पर कड़ी टिप्पणी करने लगे। केजरीवाल मूल रूप से हरियाणा के हैं और पंजाब हरियणा में लंबे समय से विवाद चल रहा है। इसलिए अकाली नेताओं को मौका मिल गया और उन्होंने केजरीवाल के हरियाणा मूल की दुहाई देकर पंजाब के लोगो को सतर्क करना शरू कर दिया। और इधर दिल्ली में भाजपा विधायक दल के नेता विजेन्द्र गुप्ता ने केजरीवाल पर दिल्ली से भागने की कोशिश करने का आरोप लगाना शुरू किया।

मोदी का कंधा, विकास का झंडा और हिंदुत्व का एजेंडा

पर क्या उत्तर प्रदेश में भाजपा जीत पाएगी?
Author: अनिल जैन - Published 2017-01-12 10:11

हर तरफ से देश की आर्थिक दुर्गति की गूंज के बीच दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक संपन्न हो गई। पूरे ताम-झाम और सज-धज के साथ हुई इस बैठक के मंच पर भाजपा के व्यक्ति-आधारित पार्टी में रूपांतरण को चरितार्थ करते काया और छाया के प्रतिरूप नरेंद्र मोदी और अमित शाह का पूरा दबदबा। भ्रष्टाचार और काले धन से लडने के नाम पर की गई नोटबंदी से हैरान परेशान आम लोगों की चीख-चीत्कार से बेखबर दिल्ली के सांउडप्रूफ सभागार में पूरे दो दिन तक मौजूदा स्थिति के निर्माता और प्रतीक-पुरूष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का तरह-तरह से स्तुतिगान हुआ।

पंजाब में कांग्रेस और आप में मुख्य मुकाबला

अकाली-भाजपा सफाए की ओर
Author: कल्याणी शंकर - Published 2017-01-11 11:29

पांच राज्यों के होने वाले चुनाव मे उत्तर प्रदेश के बाद पंजाब ऐसा दूसरा राज्य है, जिसपर लोगों की नजरे टिकी हुई हैं। अभी तक जो ओपिनियन पोल आए हैं, उनके नतीजे मिश्रित हैं। इंडिया टुडे चैनल में आए सर्वे नतीजे कांग्रेस के पक्ष में हैं। उसके अनुसार कांग्रेस को 117 सदस्यीय पंजाब विधानसभा में 56 से 62 सीटें आ सकती हैं। आम आदमी पार्टी को दूसरी बड़ी पार्टी बताया जा रहा है। उसके अनुसार उसे 36 से 41 सीटें हासिल हो सकती हैं। अकाली दल भारतीय जनता पार्टी गठबंधन को 18 से 22 सीटें मिलने का अनुमान वह सर्वे दे रहा है। बहुजन समाज पार्टी, जिसका असर दलित वोटों पर है 1 से 4 सीटें पा सकती हैं।

अखिलेश यादव का राजनैतिक कद बढ़ा

अन्य दलों के समर्थक भी मुख्यमंत्री के हुए मुरीद
Author: प्रदीप कपूर - Published 2017-01-10 12:15

लखनऊः समाजवादी पार्टी के झगड़ों के बीच मुख्यमंत्री अखिलेश यादव एक कद्दावर नेता के रूप में उभरे हैं। सच कहा जाय तो आज समाजवादी पार्टी में उनका कद सबसे ज्यादा हो गया है। वे अपनी पार्टी के लोगों के ही चहेते नहीं रहे, बल्कि अन्य पार्टियों के समर्थक भी उनके मुरीद होते जा रहे हैं।

नोटबंदी के साये में विधानसभा चुनाव

नरेन्द्र मोदी की निजी प्रतिष्ठा दांव पर
Author: उपेन्द्र प्रसाद - Published 2017-01-09 11:51

पांच राज्यों में हो रहे विधानसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की निजी प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। इसका कारण यह है कि इन चुनावों में नोटबंदी सबसे बड़ा मुद्दा बन रहा है। विपक्षी पार्टियां ही नहीं, बल्कि खुद भारतीय जनता पार्टी भी इसे अपना प्रमुख चुनावी मुद्दा बना रही है। उसे लगता हे कि इसके कारण उसे जनता का समर्थन मिल रहा है। भारतीय जनता पार्टी से भी ज्यादा मायने यह मुद्दा प्रधानमंत्री मोदी के लिए रखता है, क्योंकि यह प्रधानमंत्री का निजी निर्णय के रूप में जनता के सामने आया है। आरोप लग रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने इस निर्णय से पहले किसी से सलाह नहीं ली। प्रधानमंत्री खुद कह चुके हैं कि इस निर्णय को उन्होंने अंत अंत तक गुप्त रखा, क्योंकि वह नहीं चाहते थे कि जिन लोगों के खिलाफ यह नोटबंदी की जा रही है, उन्हें इसकी भनक पहले से लगे और वे अपने पास जमा काले कैश को ठिकाने लगा दें।

News Feeds

SPECIAL OFFER

Register, Transfer, or Host Websites
Special offers are available for domain registration and hosting servers with free trial at AnyPursuit Hosting Network

Article Topics

  1. अन्तर्राष्ट्रीय
  2. उपमहादेशीय
  3. महादेशीय
  4. राष्ट्रीय
  5. विविध